Sunday, May 31, 2009

unknown

यूँ दोस्त सारे अपने अपने रस्ते बदल गए
कुछ पीछे रुक गए तो कुछ आगे निकल गए
हालात की धुप ज़रा सी देर को तेज़ क्या हुई
जितने वफ़ा के पैकर थे सारे पिघल गए
वादों के तारे रातों से बहार न जा सके
इरादों के दिन निकलने से पहले ही ढल गए
वाफाओ के रंग शबनम के कतरों ने धो दिए
मोहब्बत के फूल जज्बों की शिद्दत से जल गए
तानों के तीर दुनिया की कमानों पे जब चढ़े
सब्र के दामन हाथों से यकदम फिसल गए
आंखें खुली तो खाबों को बुरा लगा मगर
कुछ देर वो रह के मुज़्तरिब ख़ुद ही बेहाल गए
पहले पहले तो अजीब लगे बदले हुए चेहरे
फिर यूँ हुआ के वक्त के साथ हम भी संभल गए

unknown

yun dost saare apne apne raste badal gaye
kuch peeche ruk gaye toh kuch aagay nikal gaye
halaat ki dhoop zara si der ko tez kya hui
jitne waffa ke paikar thay saare pighal gaye
vaadon ke tare raaton se bahar na ja sake
iraadon ke din nikalne se pehle hi dhal gaye
waffon ke rang shabnam ke qatron ne dho diye
mohbbat ke phool jazbon ki shiddat se jal gaye
taanon ke teer duniya ki kamaanon pe jab chadhe
sabar ke daaman haathon se yakdum phisal gaye
ankhein khuli toh khabon ko bura laga magar
kuch der vo reh ke muztarib khud hi behal gaye
pehle pehle toh ajeeb lage badle huye chehre
phir yun hua ke waqt ke saath hum bhi sambhal gaye

unknown

फिर शब्-ए-ग़म ने मुझे शकल दिखाई क्योंकर
ये बला घर से निकली हुई आई क्योंकर
तुने की गैर से मेरी बुराई क्योंकर
गर ना थी दिल में तो लब पर तेरे आई क्योंकर
तुम दिलज़ार-ओ-सितमगर नहीं मैंने माना
मान जायेगी इससे सारी खुदाई क्योंकर
आईना देख के वो कहने लगे आप ही आप
ऐसे अच्छों की करे कोई बुरे क्योंकर
कसरत-ए-रंज-ओ-आलम सुन के ये इल्जाम मिला
इतने से दिल में है इतनो की समायी क्योंकर
दाग़ कल तक तो दुआ आपकी मक़बूल ना थी
आज मुंह मांगी मुराद आप ने पाई क्योंकर

unknown

phir shab-e-gam ne mujhe shakal dikhai kyonkar
ye bala ghar se nikali hui aayi kyonkar
tune kii gair se meri burayi kyonkar
gar na thi dil mein toh lab par tere aayi kyonkar
tum dilazar-o-sitamgar nahin maine maana
maan jaayegi isse saari khudai kyonkar
aaiina dekh ke vo kahane lage aap hi aap
aise achchoun ki kare koi burai kyonkar
kasarat-e-ranj-o-alam sun ke ye ilzaam mila
itane se dil mein hai itano ki samayi kyonkar
daag kal tak to dua aap ki maqabul na thi
aaj munh mangi muraad aap ne payi kyonkar

unknown

दिल को क्या हो गया खुदा जाने
क्यूँ है ऐसा उदास क्या जाने
कह दिया मैंने हाल-ए-दिल अपना
इसको तुम जानो या खुदा जाने
जानते जानते ही जानेगा
मुझ में क्या है अभी वो क्या जाने
तुम न पाओगे सदा दिल मुझ सा
जो तगाफुल को भायी हया जाने

unknown

dil ko kya ho gaya khuda jaane
hai aisa udaas kya jaane
keh diya maine haal-e-dil apana
issko tum jaano ya khuda jaane
janate janate hi jaanega
mujh mein kya hai abhi wo kya jaane
tum na paaoge sada dil mujh sa
jo tagaaful ko bhayi hayya jaane

unknown

जिंदगी तुने लहू लेके दिया कुछ भी नहीं
तेरे दामन में मेरे वास्ते क्या कुछ भी नहीं
मेरे इन हाथों की चाहो तो तलाशी ले लो
मेरे हाथों में लकीरों के सिवा कुछ भी नहीं
हमने देखा है कई ऐसे खुदाओं को यहाँ
सामने जिनके वो सचमच का खुदा कुछ भी नहीं
या खुदा अब के ये किस रंग से आई है बहार
ज़र्द ही ज़र्द है पेडों पे हरा कुछ भी नहीं
दिल भी इक जिद पे अदा है किसी बच्चे की तरह
या तो सब कुछ ही इससे चाहिए या कुछ भी नहीं

unknown

zindgi tune lahu leke diya kuch bhi nahin
tere daaman mein mere vaaste kya kuch bhi nahin
mere in haathon ki chaho toh talashi le lo
mere hathon mein lakeron ke siva kuch bhi nahin
humne dekha hai kai aise khudaaon ko yhahan
saamne jinke vo sachmuch ka khuda kuch bhi nahin
ya khuda ab ke ye kis rang se aai hai bahar
zard hi zard hai pedon pe hara kuch bhi nahin
dil bhi ik zid pe adaa hai kisi bachche ki tarah
yaa to sab kuch hi isse chahiye ya kuch bhi nahin

waseem barelvi ki shayyiri

मैं इस उम्मीद पे डूबा की तू बचा लेगा
अब इसके बाद तू मेरा इम्तिहान क्या लेगा
ये एक मेला है वादा किसी से क्या लेगा
ढलेगा दिन तो हरेक अपना रास्ता लेगा
मैं बुझ गया तो हमेशा को बुझ ही जाऊंगा
कोई चराग नही हूँ जो फिर जला लेगा
कलेजा चाहिए ... दुश्मन से दुश्मनी के लिए
जो बे_अमल है वो बदला किसी से क्या लेगा
हज़ार तोड़ के आ जाऊं उससे रिश्ता "वसीम"
मैं जानता हूँ वो जब चाहेगा बुला लेगा

waseem barelvi ki shayyiri

main iss ummid pe dooba ki tu bacha lega
ab iss ke baad tu mera imtihaan kya lega
ye ek mela hai vaada kisi se kya lega
dhalega din toh harek apna raasta lega
main bhujh gaya toh hamesha ko bhujh hi jaonga
koi charaag nahi hun jo phir jalaa lega
kaleja chahiye ... dushman se dushmani ke liye
jo be_amal hai vo badla kissi se kya lega
hazaar tod ke aa jaaon uss se rishta "waseem"
main jaanta hun vo jab chahega bula lega

faraz ki shayyiri

ये क्या के सब से बयान दिल की हालतें करनी
'फ़रज़' तुझको न आई मुहबतें करनी
ये क़ुर्ब क्या है के तू सामने है और हमें
शुमार अभी से जुदाई की से'आतें करनी
कोई खुदा हो के हो पत्थर ... जिसे भी हम चाहें
तमाम उम्र उसी की इबादतें करनी
सब अपने अपने करीने से मुन्तजिर उस के
किसी को शुक्र किसी को शिकायतें करनी
हम अपने दिल से हैं मजबूर और लोगों को
ज़रा सी बात पे बरपा क़यामतें करनी
मिलें जब उनसे तो मुबहम सी गुफ्तगू करना
फिर अपने आप से सौ-सौ वजातें करनी
ये लोग कैसे मगर दुश्मनी निभातें हैं
हमीं को रास आई मुहबतें करनी
कभी 'फ़रज़' नये मौसोम में रोया देना
कभी तलाश पुरानी राकाबतें करनी

faraz ki shayyiri

ye kya ke sab se bayaan dil ki haalaten karni
'faraz' tujhko na aayi muhabaten karni
ye qurb kya hai ke tu saamne hai aur hamen
shumaar abhi se judai ki say'aten karni
koi khuda ho ke ho patthar ... jise bhi hum chahen
tamaam umr ussi ki ibaadaten karni
sab apne apne qariine se muntazir uss ke
kisi ko shukr kisi ko shikaayaten karni
hum apne dil se hain majboor aur logon ko
zara si baat pe barpa qayamaten karni
milen jab unnse toh mubaham si guftaguu karna
phir apne aap se sau-sau vazaahaten karni
ye log kaise magar dushmani nibhaaten hain
hamin ko raas na aayi muhabaten karni
kabhi 'faraz' naaye mausom mein roa dena
kabhi talaash purani raqabaten karni

unknown

रंगीनी हयात लुटाने के बाद हम
उनसे मिले हैं हस्ती मिटने के बाद हम
दिल का हर एक गोशा मुनव्वर हुआ है आज
एक जान हुए हैं एक ज़माने के बाद हम
मत जाईये रहिये मेरे दिल के करीब आप
कैसे रहेंगे आप के जाने के बाद हम
हम अपने लिए आप को बदनाम क्यूँ करें
ख़ुद छुप रही हैं राज़ छुपाने के बाद हम
नज़रों से यूँ पिलाई के मदहोश हो गए
कुछ कह न पाए होश गंवाने के बाद हम
एहसास जिंदगानी का ग़म सुर्खरू हुआ
इस दर्जा खुश हुए उन्हें पाने के बाद हम

unknown

ranginii hayat lutane ke baad hum
unnse mile hain hasti mitane ke baad hum
dil ka har ek gosha munawwar hua hai aaj
ek jaan huye hain ek zamane ke baad hum
mat jaaiye rahiye mere dil ke qareeb aap
kaise rahenge aap ke jaane ke baad hum
hum apne liye aap ko badnam kyun karein
khud chhup rahy hain raaz chhupane ke baad hum
nazron se yun pilayi ke madhosh ho gaye
kuch keh na paye hosh ganwane ke baad hum
ehsaas zindegani ka gham surkharu hua
iss darja khush huye unhen paane ke baad hum

unknown

तेरे फिराक के लम्हे शुमार करते हुये
बिखर चले है तेरा इंतज़ार करते हुये ..
मैं भी खुश हूँ कोई जा कर उससे यह कह दे
अगर वो खुश है मुझे बेकरार करते हुये ,,..
मैं मुस्कुराता हुआ आईने मैं उबरुंगा
वो रोया पड़ेगी अचानक सिंगर करते हुये

unknown

tere firaaq ke lamhe shumar karte huye
bikhar chale hai tera intzaar karte huye ..
main bhi khush hoon koi ja kar usse yeh keh de
agar wo khush hai mujhe beqarar karte huye ,,..
main muskurata hua aaiine main ubhronga
vo roa padegi achanak singar karte huye

unknown

तो क्या ये तय है, अब उमर भर नही मिलना
तो फिर ये उमर भी क्यूँ, तुम से अगर नही मिलना
चलो ज़माने की खातिर, ये चीज़ भी सह लें
के अब कभी जो मिले तो टूट कर नही मिलना
राह-ए-वफ़ा के मुसाफिर को कौन समझाए
के इस सफर में कोई नही मिलता
जुदा जब भी हुए दिल को यूँ लगे जैसे
के अब कभी गए तो लौट कर नही मिलना

unknown

toh kya ye tai hai, ab umar bhar nahi milna
toh phir ye umar bhi kyun, tum se agar nahi milna
chalo zamane ki khatir, ye cheez bhi seh len
ke ab kabhi jo mile toh tuut kar nahi milna
raah-e-wafa ke musafir ko kaun samjhaye
ke iss safar mein koi nahi milta
juda jab bhi huye dil ko yun lage jaise
ke ab kabhi gaye toh laut kar nahi milna

unknown

चलो एक बार फिर से अजनबी बन जाए हम दोनों
न मैं तुम से कोई उम्मीद रखों दिल नवाजी की
न तुम मेरी तरफ़ देखो ग़लत अंदाज़ नज़रों से
न मेरे दिल की धड़कन लड़खडाए मेरी बातों से
न ज़ाहिर हो तुम्हारी कशमकश का राज़ नज़रों से
तुम्हे जो कोई अंजुमन रोकती है पेश कदमी से
मुझे भी लोग लहते है के यह जलवे पारा'ये है
मेरे हमराह भी रुस्वयिया है मेरे माजी की
तुम्हारे साथ भी गुजरी हुई रातों के साए हैं
तारुफ़ रोग हो जाए तोह उसको भूलना बेहतर
तालुक बोझ बन जाए तप उसको तोड़ना अच्छा
वोह अफसाना जिसे अंजाम तक लाना हो मुमकिन
उससे एक खुबसूरत मोड़ दे कर छोड़ना अच्छा
चलो एक बार फिर से अजनबी बन जाए हम दोनों

unknown

chalo ek baar phir se ajnabi ban jaaye hum dono
na main tum se koi umeed rakhon dil nawazi ki
na tum meri taraf dekho ghlat andaaz nazron se
na mere dil ki dhadkan ladkadaye meri baato se
na zaahir ho tumhari kashmkash ka raaz nazron se
tumhe jo koi anjuman rokti hai paish qadmi se
mujhe bhi log lehte hai ke yeh jalwe para'ye hai
mere humrah bhi rusvayia hai mere maazi ki
tumhare saath bhi guzri hui raton ke saaye hain
taaruf rog ho jaaye toh usska bhulna behtar
taluq bojh ban jaaye toh usska todna achcha
woh afsana jisay anjaam tak lana na ho mumkin
usse ek khubsurat mod de kar chodna achcha
chalo ek baar phir se ajnabi ban jaaye hum dono

faraz ki shayyiri

अब और क्या किसी से मरासिम बढायें हम
ये भी बोहत है, तुझे भूल जाएँ हम
सेहरा-ए-जिंदगी में कोई दूसरा न था
सुनते रहे हैं आप ही अपनी सदाएँ हम
इस जिंदगी में इतनी फरागत किसे नसीब
इतना न याद आ के तुझे भूल जाएँ हम
तू इतनी दिलज़दा तो न थी ऐ शब्-ए-फिराक
आ तेरे रास्ते में सितारे लौटाएं हम
वोह लोग अब कहाँ हैं जो कह्ते थे कल 'फ़रज़'
ऐ ऐ खुदा न करना तुझे भी रुलाएँ हम

faraz ki shayyiri

ab aur kya kisi se marasim badhayen hum
ye bhi bohat hai, tujhe bhool jaayen hum
sehra-e-zindgi mein koi dosra na tha
sunte rahe hain aap hi apni sada'ein hum
iss zindgi mein itni fraghat kise naseeb
itna na yaad aa ke tujhe bhool jaayen hum
tu itni dilzada toh na thi ae shab-e-firaq
aa tere raaste mein sitare lota'ein hum
woh log ab kahan hein jo kehte thay kal 'faraz'
ai ai khuda na karna tujhe bhi rulayen hum

unknown

उल्फत की दुनिया का हिस्सा बन जाऊं
काश मैं तेरे प्यार का हिस्सा बन जाऊं
तुझसे हो कर तेरे दिल तक पहुँचू
काश मैं तेरे नाम का हिस्सा बन जाऊं

unknown

ulfat ki duniya ka hissa ban jaaon
kaash main tere pyar ka hissa ban jaaon
tujhse ho kar tere dil tak pohunchoon
kaash main tere naam ka hissa ban jaaon

unknown

एहसास का अंदाज़ बदल जाता है, वरना
आँचल भी उसी तार से बनता है, कफ़न भी

unknown

ehsaas kaa andaaz badal jaata hai, varna
aanchal bhi ussi taar se banta hai, kafan bhi

unknown

दर्द की कायनात में मुझ से भी रौशनी रही
वैसे मेरी बिसात क्या इक दिया बुझा हुआ

unknown

dard ki kaayanaat mein mujh se bhi roshni rahi
waise meri bisaat kya ik diya bujha hua

unknown

मैंने दुश्मन को भी एहसास-ए-मोहब्बत बख्शा
मेरे अपने मुझे नफरत की सज़ा देते है

unknown

maine dushman ko bhi ehsaas-e-mohabbat bakhsha
mere apne mujhe nafrat ki saza dete hai

unknown

एक अरसा हुआ मुस्कुराये हुए
देख तेरे अल्फाज़ किस दिन याद आए भुलाये हुए

unknown

ek arsa hua muskuraye huye
dekh tere alfaaz kis din yaad aaye bhulaye huye

unknown

अगर मर जाऊं तो तुझ से लिपट कर मर जाऊं में
मेरी तन्हाई को आज इतना तो इख्तियार दो...

unknown

agar marr jaau to tujh se lipat kar marr jaau mein
meri tanhaayi ko aaj itna to ikhtiyaar do...

unknown

दुःख सब के मुश्तरेक है मगर हौंसले जुदा
कोई बिखर गया तो कोई मुस्कुरा दिया

unknown

dukh sab ke mushtarek hai magar haunsle juda
koi bikhar gaya toh koi muskuraa diya

faraz ki shayyiri

रोएगा इस कदर वो मेरी लाश से लिपट कर फ़रज़....!
अगर इस बात का पता होता तो कब का मर गया होता....!!

faraz ki shayyiri

royega iss kadar vo meri laash se lipat kar 'faraz'....!
agar iss baat ka pata hota toh kab ka marr gaya hota....!!

unknown

!....वो इस आन में रहते हैं कि हम उन्को उंनसे मांगें....!
!....हम इस गरूर में रहते हैं कि हम अपनी ही चीज़ें माँगा नहीं करते....!

unknown

!....vo is aan men rahate hain ki ham unko unnase maange....!
!....ham is garoor mein rehte hain ki ham apanii hii chiizen maangaa nahiin karate....!

unknown

नया एक रिश्ता क्यों पैदा करे, हमें बिछड़ना है तो झगडा क्यों करे
हम खामोशी से अदा हो रस्म-ए-दूरी कोई हंगामा बरपा क्यों करे
हम यह काफ़ी है के हम दुश्मन नही है वफादारी का दावा क्यों करे
हम वफ़ा, इखलास, कुर्बानी, मुहबत अब इन लफ्जों का पीछा क्यों करे
हम सुना दे अस्मत-ऐ-मरयम का किस्सा ? अब इस बाब को वा क्यों करे
हम जुलेखा से अजीजान बात यह है भला घाटे का सौदा क्यों करे
हम हमारी ही तमन्ना क्यों करो तुम तुम्हारी ही तमन्ना क्यों करे
हम क्या था अहद जब लम्हों में हमने तो सारी उमर ईफा क्यों करे
हम उठा कर क्यों न फेंके सारी चीजे फकत कमरों में थाला क्यों करे
हम जो एक नसल फ़र-ओ-माया को पुहंचे वोह सरमाया एक खट्टा क्यों करे
हम नही दुनिया को जब परवा हमारी तो फिर दुनिया की परवा क्यों करे
हम बरहराना है सर-ए-बाज़ार तो क्या भला अंधों से परदा क्यों करे
हम है बाशिंदे इस ही बस्ती के हम भी सो ख़ुद पर भी भरोसा क्यों करे
हम चबा कें क्यों न ख़ुद ही अपना ढांचा तुम्हे रातिब मुहईया क्यों करे
हम पड़ी रहने दो इंसानों की लाशें ज़मीं का बोझ हल्का क्यों करे

unknown

naya ek rishta kyu paida kare, hum bichadna hai toh jhagda kyu kare
hum khamoshi se ada ho rasm-e-doori koi hangama barpa kyu kare
hum yeh kaafi hai ke hum dushman nahi hai wafadari ka dava kyu kare
humwafa, ikhlaas, qurbanni, muhabat ab in lafzo ka peecha kyu kare
hum suna de asmat-e-maryam ka kisaah? ab is baab ko wa kyu kare
hum zulekha se azizaan baat yeh hai bhala ghaate ka sauda kyu kare
hum hamari hi tamanna kyu karo tum tumhari hi tamanna kyu kare
hum kya tha ahad jab lamho mein humne toh saari umar aifa kyu kare
hum utha kar kyu na phenke saari cheeze fakat kamron mein thala kyu kare
hum jo ek nasal far-o-maya ko pohnche woh sarmaya ek khatta kyu kare
hum nahi duniya ko jab parwa hamari toh phir duniya ki parwa kyu kare
hum barharana hai sar-e-bazaar toh kya bhala andhoun se parda kyu kare
hum hai baashinde iss hi basti ke hum bhi so khud par bhi bharosa kyu kare hum chaba kein kyu na khud hi apna dhaancha tumhe raatib muhayeeya kyu kare
hum padi rehne do insaano ki laashien zamin ka bhojh halka kyu kare

faraz ki shayyiri

सिलसिले तोड़ गया वो सभी जाते जाते
वरना इतने तो मरासिम[रिश्ता] थे के आते जाते
शिकवा-ए-ज़ुल्मत-ए-शब से तो कहीं बेहतर था
अपने हिस्से की कोई शम्मा जलाते जाते
कितना आसन था तेरे हिज्र में मरना जाना
फिर भी इक उमर लगी जान से जाते जाते
जशन-ए-मकतल ही न बरपा हुआ वरना हम भी
पा-बजोलाँ[chained] जी सही नाचते गाते जाते
उसकी वो जाने उसे पास--वफ़ा था के था
तुम "फ़रज़" अपनी तरफ़ से तो निबाते जाते

faraz ki shayyiri

silsile tod gaya vo sabhi jaate jaate
varna itne toh maraasim[rista] thay ke aate jaate
shikwa-e-zulmat-e-shab se toh kahin behtar tha
apne hisse ki koi shamma jalate jaate
kitna aasan tha tere hijr mein marna jaana
phir bhi ik umar lagi jaan se jaate jaate
jashn-e-maqtal hi na barpa hua varna hum bhi
pa-bajolaan[chained] ji sahi naachte gaate jaate
usski vo jaane usse paas-e-waffa tha ke na tha
tum "faraz" apni taraf se toh nibate jaate

unknown

उसके लगते हैं ये अंदाज़ निराले मुझको
ख़ुद ही नाराज़ करे ख़ुद ही माना ले मुझको
याद हैं अब भी मोहब्बत के हवाले मुझको
काश आवाज़ तो दे काश बुला तो ले मुझको
इक हसीं ख्वाब हूँ आँखों में सजा ले मुझको
अपने हर ख्वाब की ताबीर बना ले मुझ को
में तो खुशबू की तरह तुझ में बसा हूँ जानम
कहीं करना न हवाओं के हवाले मुझको
उसकी चाहत से हवाओं में उड़ा जाता हूँ
उस से कहिये के ज़रा आ के संभाले मुझको
मैं धड़कन की तरह दिल में बसा हूँ उसके
मेरे घर से वो भला कैसे निकले मुझको
अब तो अनमोल वोही है मेरी आँखों की ज़िया
वो जो आए तोह नज़र आए उजाले मुझको

unknown

uske lagte hain ye andaaz niraale mujhko
khud hi naraaz kare khud hi mana le mujhko
yaad hain ab bhi mohabbat ke hawaale mujhko
kash aawaaz to de kash bulaa to le mujhko
ik haseen khwaab hoon ankhon mein saja le mujhko
apne har khwab ki tabeer bana le mujh ko
main toh khushboo ki tarah tujh mein basa hoon jaanam
kahin karna na hawaon ke hawaale mujhko
uski chahat se hawaoo mein uda jata hoon
us se kahiye ke zara aa ke sambhale mujhko
main dhadkan ki tarah dil mein basa hoon uske
mere ghar se wo bhala kaise nikale mujhko
ab to anmol vohi hai meri ankhon ki ziya
vo jo aaye toh nazar aaye ujaale mujhko

ashufta changezi ki shayyiri

ये भी नही बीमार न थे
इतने जूनून आसार न थे
लोगों का क्या ज़िक्र करें
हम भी कम अय्यार[cuning] न थे
घर में और बोहत कुछ था
सिर्फ़ दर--दीवार थे
सब पर हँसना शेवाह[nature] था
जब तक ख़ुद उस पार ना थे
तेरी ख़बर मिल जाती थी
शहर में जब अखबार ना थे
पहले भी सब कुछ मिलता था
ख्वाबों के बाज़ार न थे
मौत की बातें प्यारी थी
मरने को तैयार न थे

ashufta changezi ki shayyiri

ye bhi nahi bimaar na thay
itane junoon aasaar na thay
logon ka kya zikr karen
hum bhi kam ayyar[cuning] na thay
ghar mein aur bohat kuch tha
sirf dar-o-deewar na thay
sab par hansna shevaah[natue] tha
jab tak khud uss paar na thay
teri khabar mil jaati thi
shahr mein jab akhbaar na thay
pehle bhi sab kuch milta tha
khwabon ke bazaar na thay
maut ki baaten pyari thi
marne ko tayyar na thay

faraz ki shayyiri

दोनों जहाँ तेरी मोहब्बत में हार के
वोह जा रहा है कोई शब्-ए-ग़म गुजार के
वीरान है मैकदा खुम-ओ-साग़र उदास हैं
तुम क्या गए के रूठ गए दिन बहार के
एक फुर्सत--गुनाह मिली वोह भी चार दिन
देखे हैं हम ने हौसले परवरदिगार के
दुनिया ने तेरी याद से बेगाना कर दिया
तुझसे भी दिल फरेब हैं ग़म रोज़गार के

faraz ki shayyiri

dono jahaan teri mohabbat mein haar ke
woh jaa raha hai koi shab-e-gham guzaar ke
viraan hai maikada khum-o-saaghar udaas hain
tum kya gaye ke ruth gaye din bahaar ke
ek fursat-e-gunah mili woh bhi chaar din
dekhe hain hum ne hausle parwardigaar ke
duniya ne teri yaad se begaana kar diya
tujhse bhi dil fryab hain gham rozgaar ke

unknown

ये दिल तुझे इतनी शिद्दत से चाहता क्यों है
हर साँस के साथ तेरा ही नाम आता क्यों है
तू कितना भी मुझसे तलख़-ए-ताल्लुक रख ले
ज़िक्र फिर भी तेरा मेरी ज़बान पे आता क्यों है
यूँ तो है कई फासले तेरे मेरे बीच
लगता फिर भी तू मुझको मेरी जान सा क्यों है
तेरी फुरकत मैं तड़पने की हो चुकी है आदत मेरी
तेरे दूर होने का फिर भी एहसास मुजको रुलाता क्यों है
ये जानती हु के तुझको नही मोहब्बत मुझसे
मगर फिर भी लब पे मेरे तेरा ही नाम आता क्यों है
है यकीन तुझको पाना न होगा मुमकिन मेरे लिए
ये दिल फिर भी रोज़ उम्मीद की शमा जलाता क्यों है
महसूस की है बेरुखी तेरी बातों में कई बार मैंने
लहजो वो फिर भी तेरा मुझको इतना बता क्यों है
है ख़बर मुझको निकलेगा तू मेरी चाहत का जनाज़ा एक दिन
मन मेरा फिर भी तेरे ख्वाब सजाता क्यों है
गर बिछड़ना ही है तो खुदा हमको मिलाता क्यों है
कमसिन को आखिर वो इतना सताता क्यों है
दिल मेरा तुझको इतनी शिद्दत से चाहता क्यों है
हर साँस के साथ तेरा ही नाम आता क्यों है

unknown

ye dil tujhe itni shiddat se chahta kyu hai
har saans ke sath tera hi naam aata kyu hai
tu kitna bhi mujhse talkh-e-talluk rakhle
zikr phir bhi tera meri zaban pe aata kyu hai
yun toh hai kai faasle tere mere beech
lgata phir bhi tu mujhko meri jaan sa kyu hai
teri furkat main tadapne ki ho chuki hai aadat meri
tere duur hone ka phir bhi ehsaas mujko rulata kyu hai
ye jaanti hu ke tujhko nahi mohabbat mujhse
magar phir bhi lab pe mere tera hi naam aata kyu hai
hai yaqeen tujhko paana na hoga mumkin mere liye
ye dil phir bhi roz umeed ki shama jalata kyu hai
mehsus ki hai berukhi teri baato mein kai baar maine
lehjo wo phir bhi tera mujhko itna bhata kyu hai
hai khabar mujhko nikalega tu meri chahat ka janaza ek din
mann mera phir bhi tere khwab sajata kyu hai
gar bichad na hi hai to khuda humko milata kyu hai
kamsin ko akhir wo itna satata kyu hai
dil mera tujhko itni shiddat se chahta kyu hai
har saans ke sath tera hi naam aata kyu hai

unknown

हम बेखबर थे....आप ने हमे इससे मसरूफ रख दिया...
साथ तो देते कुछ पल......पर.....हमे ही दूर रख दिया....
ज़िन्दगी में ऐसे कई लम्हा आता है....
जब अपने नही...पर पराये ही काम आते है..
इतना ही अब गुजारिश है....
ग़म हो या खुशी..हमसे बाँट ने की फरमाइश है....
गर है यकीन हमारी दोस्ती पे तो अब से....
हल-ऐ-दिल बताने के...साजिश है...

unknown

hum bekhabar thay....aap ne hume isse masroof rakh diya...
sath to dete kuch pal......per.....hume hi dur rakh diya....
zindagi mein aise kayi lamha aatha hai....
jab apne nahi...per paraye hi kaam aathe hai..
ithna hi ab guzarish hai....
gham ho ya khushi..humse bant ne ke farmaish hai....
gar hai yakeen hamari dosti pe to ab se....
hal-e-dil bathane ke...sazish hai...

bani ki shayyiri

वो बात बात पे जी भर के बोलने वाला
उलझ के रह गया, दूरी को खोलने वाला
लो सारे शहर के पत्थर समेट लाये हम
कहाँ है हम को शब्-ए-रोज़ तोलने वाला
हमारा दिल तो समंदर था उसने देख लिया
बहुत उदास हुआ ज़हर घोलने वाला
किसी की मौज-ए-रवां से खा गया क्या मात
वो एक नज़र में दिलों को तोलने वाला
वो आज फिर यही दोहरा के चल दियाबनी
मैं भूल के नहीं अब तुझसे बोलने वाला

bani ki shayyiri

vo baat baat pe ji bhar ke bolane wala
ulajh ke reh gaya, duuri ko kholane wala
lo saare shahr ke pathar samet laaye hum
kahaan hai hum ko shab-e-roz tolane wala
hamara dil toh samandar tha ussne dekh liya
bahut uddas hua zahar gholane wala
kisi ki mauj-e-ravaan se kha gayaa kya maat
vo ek nazar mein dilon ko tolane wala
vo aaj phir yahi doharaa ke chal diya ‘bani’
main bhuul ke nahin ab tujhse bolane wala

shehzad ahmed ki shayyiri

अपनी तस्वीर को आंखों से लगता क्या है
इक नज़र मेरी तरफ़ देख तेरा जाता क्या है
मेरी रुसवाई में तू भी है बराबर का शरीक
मेरे किस्से मेरे यारों को सुनाता क्या है
पास रहकर भी न पहचान सका तू मुझको
दूर से देख कर अब हाथ हिलाता क्या है
सफर-ए-शौक़ में क्यूँ कांपते हैं पाँव तेरे
दूर से देख कर अब हाथ उठाता क्या है
उम्र भर अपने गिरेबान से उलझाने वाले
तू मुझे मेरे साए से डराता क्या है
मर गए प्यास के मारे तो उठा अब्र-ए-करम
बुझ गई बज्म तो अब शमा जलाता क्या है
मैं तेरा कुछ भी नहीं हूँ, मगर इतना तो बता
देख कर मुझको तेरे जेहन में आता क्या है

shehzad ahmed ki shayyiri

apni tasviir ko aankhon se lagataa kya hai
ik nazar meri taraf dekh tera jata kya hai
meri rusvai mein tu bhi hai barabar ka sharrik
mere qisse mere yaaron ko sunaata kya hai
paas rehkar bhi na pehchaan sakaa tu mujhko
duur se dekh kar ab haath hilaata kya hai
safar-e-shauq mein kyun kaantpate hain paanv tere
duur se dekh kar ab haath uthaata kya hai
umar bhar apne girebaan se uljhane wale
tu mujhe mere saaye se daraata kya hai
marr gaye pyaas ke mare toh uthaa abr-e-karam
bujh gayi bazm toh ab shama jalaata kya hai
main tera kuch bhi nahin hun, magar itna toh bataa
dekh kar mujhko tere zehan mein aata kya hai

unknown

लगा कर दिल हटा लेना वफ़ा इसको नहीं कह्ते
दिखा कर मुँह छुपा लेना हया इसको नहीं कह्ते

unknown

laga kar dil hata lena waffa issko nahin kehte
dikha kar munh chhupa lena haya issko nahin kehte

unknown

मैं नज़र से पी रहा हूँ, ये समा बदल जाए
झुकाओ तुम निगाहें, कहीं रात ढल जाए
मेरे अश्क भी है इस में ये शराब उबल जाए
मेरा जाम छूने वाले तेरा हाथ जल जाए
अभी रात कुछ है बाकी, उठा नकाब साकी
तेरा
रिंद गिरते गिरते, कहीं फिर संभल जाए
मेरी जिन्दगी के मालिक, मेरे दिल पे हाथ रखना
तेरे आने की खुशी में मेरा दम निकल जाए
मुझे फूंकने से पहले, मेरा दिल निकल लेना
ये किसी की है अमानत, मेरे साथ जल जाए

unknown

main nazar se pee raha hoon, ye samaa badal na jaaye
na jhukaao tum nigaahen, kahin raat dhal na jaaye
mere ashk bhi hai iss mein ye sharab ubal na jaaye
mera jaam chhune wale tera haath jal na jaaye
abhi raat kuch hai baqi, na utha naqaab saaqi
tera rind girte girte, kahin phir sambhal na jaaye
meri jindgi ke maalik, mere dil pe haath rakhna
tere aane ki khushi mein mera dam nikal na jaaye
mujhe phoonkne se pehle, mera dil nikal lena
ye kisi ki hai amaanat, mere saath jal na jaye

unknown

ये किया हर दम किसी की मिनतें करना
किया इसी को कह्ते है मोहब्बतें करना
जो अपनी किस्मत में है मिलेगा वोही
किस बात पे ये रब से शिकायतें करना
ये पागलपन नही तो और किया है फिर
ज़मीन के हो कर आसमां से बगावतें करना
बोहत कर चुका है लोगो प्यार ये दिल
अब कोई सिखाये इस को भी नफरतें करना
पहले याद करना उससे फिर रोते रहना
जाने कब छोडेगा दिल ये हरकतें करना

unknown

ye kiya har dam kisi ki minaten karna
kiya issi ko kehte hai mohabbtein karna
jo apni qismat mein hai milega vohi
kis baat pe ye rab se shikaytein karna
ye pagalpan nahi toh aur kiya hai phir
zamiin ke ho kar aasman se bagawaten karna
bohat kar chuka hai logo pyar ye dil
ab koi sikhaye issko bhi nafratein karna
pehle yaad karna usse phir rote rehna
jaane kab chodega dil ye harkaten karna

mohsin ki shayyiri

मेरे हाथों की लकीरों में ये एब छुपा है 'मोहसिन' !!!!!!
जिस शख्स को छू लूँ वो मेरा नही रहता

mohsin ki shayyiri

मेरे हाथों की लाकेर्रों में ये एब छुपा है 'मोहसिन' !!!!!!
जिस शख्स को छू लूँ वो मेरा नही रहता

mohsin ki shayyiri

mere hathon ki lakerron mein ye aeb chupa hai 'mohsin' !!!!!!
jis shaks ko chou lun vo mera nahi rehta

unknown

ज़रा सी बात पे हर रस्म तोड़ आया था
दिल-ए-तबाह ने भी क्या मिजाज पाया था
मुआफ कर न सकी मेरी जिंदगी मुझको
वो एक लम्हा की मैं तुझसे तंग आया था
शगुफ्ता फूल सिमटकर कली बनी जैसे
कुछ इस तरह से तूने बदन चुराया था
गुज़र गया है कोई लम्हा-ए-शरार की तरह
अभी तो मैं उससे पहचान भी न पाया था
पता नही की मेरे बाद उन् पे क्या गुजरी
मैं चाँद ख्वाब ज़माने में छोड़ आया था

unknown

zara si baat pe har rasm tod aaya tha
dil-e-tabaah ne bhi kya mizaaj paya tha
muaaf kar na saki meri zindgi mujhko
vo ek lamha ki main tujhse tang aaya tha
shagufta phool simatkar kali bani jaise
kuch is tarah se tuune badan churaya tha
guzar gaya hai koi lamha-e-sharar ki tarah
abhi toh main usse pehchaan bhi na paaya tha
pataa nahi ki mere baad unn pe kya guzri
main chand khvaab zamaane mein chod aaya tha

unknown

थोडी सी इबादत बुहत सा सिला देती है...
गुलाब की तरह चेहरा खिला देती है...
अल्लाह की याद को दिल से न जाने देना...
कभी कभी छोटी से दुआ अर्श हिला देती है..

unknown

thodi si ibadat buhat sa silaa deti hai...
ghulaab ki tarah chehra khilaa deti hai...
allah ki yaad ko dil se na jaane dena...
kabhi kabhi chotti se dua aarsh hila deti hai..

unknown

इस बार दिल ने तुझसे न मिलने के ठानी है
पर मैंने कब किसी की कोई बात मानी है ....

unknown

iss baar dil ne tujhse na milne ke thhani hai
par maine kab kisi ki koi baat maani hai ....

unknown

इस जज्बा दिल के बारे में एक मशवरा तुमसे लेता हूँ
उस वक्त मुझपे किया लाजिम है जब तुमपे मेरा दिल आ जाए...!!??!!

unknown

iss jazba dil ke baare mein ek mashwara tumse leta houn
uss waqt mujhpe kiya lazim hai jab tumpe mera dil aa jaaye...!!??!!

unknown

हर जानिब समंदर है किनारा क्यों नहीं मिलता
मेरे मौला बता मुझको सहारा क्यों नहीं मिलता
मुझे इस शहर में दिन भर हज़ारों लोग मिलते हैं
जिससे मैं ढूँढने निकला वोह प्यारा क्यों नहीं मिलता
जिससे चाह जिससे पूजा जिससे सोचा जिससे लिखा
मेरे मौला मेरा उससे सितारा क्यों नहीं मिलता...

unknown

har janib samandar hai kinara kyon nahin milta
mere maula bata mujhko sahara kyon nahin milta
mujhe iss shehr mein din bhar hazaroon log milte hain
jisse main dhondne nikla woh pyara kyon nahin milta
jisse chaha jisse puja jisse socha jisse likha
mere maula mera usse sitara kyon nahin milta...

unknown

ज़मीन पे चल सका आसमान से भी गया
कटा के पर को परिंदा उड़ान से भी गया
तबाह कर गई पक्के मकान की ख्वाहिश
मैं अपने गाँव के कच्चे मकान से भी गया
परे आग में ख़ुद क्या मिला तुझको
उससे बचा न सका अपनी जान से भी गया
भुलाना चाह तो भुलाने की इन्तहा कर दी
वो शख्स अब मेरे वहम-ओ-गुमान से भी गया
किसी के हाथ का निकला हुआ वो तीर हूँ मैं
हदफ़ को छू न सका और कमाँ से भी गया

unknown

zamiin pe chal na saka aasmaan se bhi gaya
kataa ke par ko parinda udaan se bhi gaya
tabaah kar gai pakke makaan ki khvaahish
main apne gaon ke kachche makaan se bhi gaya
parai aag mein khud kya mila tujhko
usse bachaa na saka apni jaan se bhi gaya
bhulaana chaha toh bhulane ki inteha kar di
vo shakhs ab mere vahm-o-gumaan se bhi gaya
kisi ke haath ka nikla hua vo teer hun main
hadaf ko chuu na sakaa aur kamaan se bhi gaya

unknown

सोचों के इम्तहाँ में मुजीब हम रहे
यह सर तो रह गया कोई कातिल नही रहा

unknown

sochon ke imtehan mein mujeeb hum rahe
yeh sar toh reh gaya koi qatil nahi rha

unknown

याद तेरी दिलाएं फिजायें तो क्या करें
अश्क नज़रों को सजाएँ तो क्या करें
फसल-ऐ-गुल में भी भुला देते गम उसका
फ़िर के तस्वीर उनकी बनायें तो क्या करें
मिलती है सज़ा ज़ख्म दिखने की भी यहाँ
फिर दर्द-ऐ-दिल न छुपायें तो क्या करें
कह्ते है लोग तमन्नाएँ लिए जीते रहो 'घायल'
जब तमन्ना ही हमें मिटायें तो क्या करें
सच…!
साँसें यूँ जिस्म को सताये तो क्या करें
हाँ अश्क नज़रों को सताये तो क्या करें

unknown

yaad teri dilayen fizayen toh kya karen
ashk nazron ko sajayen toh kya karen
fasl-e-gul mein bhi bhula dete gam usska
fir ke tasviir unnki banayen toh kya karen
milti hai saza zakhm dikhane ki bhi yahan
phir dard-e-dil na chupayen toh kya karen
kehte hai log tamanaye liye jeete raho 'ghayal'
jab tamana hi hamen mitayen toh kya karen
sach…!
sansein yun jism ko satayen toh kya karen
haan ashk nazaron ko satayen toh kya karen

unknown

ज़माना आज नही डगमगा के चलने का
संभल भी जा की अभी वक़्त है संभलने का
बहार आए चली जाए फिर चली आए
मगर ये दर्द का मौसम नही बदलने का
ये ठीक है की सितारों पे घूम आए है
मगर किसे है सलीका ज़मीं पे चलने का
फिरे है रातों को आवारा हम तो देखा है
गली गली में समा चाँद के निकालने का
तमाम नशा-ए-हस्ती तमाम कैफ-ए-वजूद
वो इक लम्हा तेरे जिस्म के पिघलने का

unknown

zamaanaa aaj nahi dagmagaa ke chalane ka
sambhal bhi jaa ki abhii vaqt hai sambhalane ka
bahaar aaye chali jaaye phir chali aaye
magar ye dard kaa mausam nahi badalane kaa
ye theek hai ki sitaaro pe ghuum aaye hai
magar kise hai saliqaa zamin pe chalane kaa
phire hai raaton ko avaara ham to dekhaa hai
gali gali mein samaa chaand ke nikalane kaa
tamaam nashaa-e-hastii tamaam kaif-e-vajuud
vo ik lamhaa tere jism ke pighalane kaa

unknown

हम दोस्ती एहसान वफ़ा भूल गए हैं
जिंदा तो हैं जीने की अदा भूल गए हैं
खुशबु जो लुटाते हैं मसलते हैं उसी को
एहसास का बदला ये मिलाता है कली को
एहसास तो लेते हैं सिला भूल गए हैं
करते हैं मुहब्बत का और एहसास का सौदा
मतलब के लिए करते हैं इमाँ का सौदा
डर मौत का और खौफ-ए-खुदा भूल गए हैं
अब मोम में ढलकर कोई पत्थर नहीं होता
अब कोई भी कुर्बान किसी पर नहीं होता
क्यूँ भटके हैं मंजिल का पता भूल गए हैं

unknown

hum dosti ehasaan vafaa bhuul gaye hain
zinda to hain jeene kii ada bhuul gaye hain
khushbu jo lutaate hain masalate hain usi ko
ehasaas ka badala ye milata hai kali ko
ehasaas to lete hain sila bhuul gaye hain
karate hain muhabbat ka aur ehasaas ka sauda
matalab ke liye karate hain imaan ka sauda
darr maut ka aur khauf-e-khudaa bhuul gaye hain
ab mom mein dhalakar koi patthar nahin hota
ab koi bhii qurbaan kisi par nahin hota
kyun bhatake hain manzil ka pata bhuul gaye hain

unknown

तर्ज़ जीने का सिखाती है मुझे
तश्नगी ज़हर पिलाती है मुझे

unknown

tarz jeene ka sikhati hai mujhe
tashnagi zahar pilaati hai mujhe

unknown

इंतज़ार तो करें के जब वो आए भी
भूल जाएँ हम छोडें जो मेरे साए भी
कल सुबह यह जिंदगी जो न रही
तमाशा देखेंगे अपने और पराये भी
वो गैर है तो गैर बनाना भी शीख ले
यादों में आ के बार बार आजमाये भी
कहता है दुनिया को छोड़ देगा हमें
मुड के देखे बार बार, घबराए भी
यह कैसा खुदा है दोस्तों
ख़ुद ही लगाए आग, ख़ुद ही भुजाये भी
शिकवा भी तो क्या करें हम किसी से
खोया इक हमसफ़र तोह लाखों पाये भी

unknown

intzaar toh karen ke jab vo aaye bhi
bhool jaayen hum chhoden jo mere saaye bhi
kal subah yeh zindgi jo na rahi
tamasha dekhenge apne aur paraye bhi
vo gaiir hai toh gaiir banana bhi sheekh le
yaadon mein aa ke baar baar aazmaaye bhi
kehta hai duniya ko chhod dega hamen
mud ke dekhe baar baar, ghabaraye bhi
yeh kaisa khuda hai dosto
khud hi lagaaye aag, khud hi bhujaaye bhi
shikwa bhi toh kya karen hum kisi se
khoya ik humsafar toh lakhon paaye bhi

unknown

गुज़रता है मेरी हर साँस से तेरा नाम आज भी,
ढलती है तेरे इंतज़ार में मेरी हर शाम आज भी,
तुझको मुझसे रूठे एक ज़माना हो गया,
पर होती है तेरे नाम से मेरी पहचान आज भी

unknown

guzarta hai meri har saas se tera naam aaj bhi,
dhalti hai tere intezaar mai meri har shaam aaj bhi,
tujko mujse ruthe ek zamana ho gaya,
par hoti hai tere naam se meri pehchaan aaj bhi

unknown

उतरे है दिल में सीधी तिरछी नज़र तुम्हारी
दिल आरजू करेगा अब तो उम्र भर तुम्हारी
कहते है प्यार किस को ? हम क्या कहेंगे इसको ?
तुमको पता है मेरा मुझको ख़बर तुम्हारी

unknown

utare hai dil men sidhi tirchhi nazar tumhaari
dil aarzoo karega ab toh umra bhar tumhaari
kahte hai pyaar kis ko ? ham kya kahenge issko?
tumko pataa hai mera mujhko khabar tumhaari

unknown

जुज़ इसके और इस्बत-ए-वफ़ा क्या है
खुदा से पूछ बैठे हम खुदा क्या है
लगा कर आग क्या पाया महुब्बत की
न सोचा संग दिल के और जला क्या है

unknown

juz isske aur isbaat-e-waffa kyaa hai
khuda se puchh baithe hum khuda kya hai
laga kar aag kyaa paaya mahoobbat ki
na socha sang dil ke aur jala kya hai

unknown

हर एक हरफ-ऐ-आरजू को दास्ताँ किए हुए
ज़माना हो गया है उनको मेहमान किए हुए
सुरूर-ए-ऐश तल्खी-ए-हयात ने भुला दिया
दिल-ए-हजीन है बेकसी को हिज्र-ऐ-जान किए हुए
कली कली को गुलशन किए हुए वो आयेंगे
वो आयेंगे कली कली को गुलशन किए हुए
सुकून-ए-दिल राहतों को उनसे मांग लूँ
सुकून-ए-दिल की राहतों को बेकरार किए हुए
वो आयेंगे तो आयेंगे जूनून-ए-शौक़ उभारने
वो जायेंगे तो जायेंगे तबाहियां किए हुए
मैं उनकी भी निगाह से छुपा के उनको देख लूँ
की उनसे भी है आज रश्क बद_गुमान किए हुए

unknown

har ek haraf-e-aarzuko dastan kiye huye
zamana ho gaya hai unko mehmaan kiye huye
suroor-e-aish talkhi-e-hayat ne bhula diya
dil-e-hazeen hai bekasi ko hizr-e-jaan kiye huye
kali kali ko gulshan kiye huye vo aayenge
vo aayenge kali kali ko gulshan kiye huye
sukoon-e-dil raahton ko unnse maang lun
sukoon-e-dil ki raahton ko bekraar kiye huye
vo aayenge toh aayenge junoon-e-shauq ubhaarne
vo jaayenge toh jaayenge tabaahiyan kiye huye
main unnki bhi nigah se chhupa ke unnko dekh lun
ki unnse bhi hai aaj rashk bad_gumaan kiye huye

unknown

मुझसे परदा है तो फिर ख्वाब में आते क्यूँ हो
प्यार की शम्मा मेरे दिल में जलाते क्यूँ हो
अलविदा कहने को आए हो तो फिर मिलना कैसा
है बिछड़ना तो गले मुझको लगते क्यूँ हो
दोस्त होके रहे ऐसा ज़रूरी तो नही
दिल ही जब मिल न सका हाथ मिलते क्यूँ हो
न लगा पाउंगी मैं इल्जाम उस पर लोगों
मेरे मुजरिम को मेरे सामने लाते क्यूँ हो

unknown

mujhse parda hai toh phir khwab mein aate kyun ho
pyar ki shamma mere dil mein jalate kyun ho
alvida kehne ko aaye ho toh phir milna kaisa
hai bichadna toh gale mujhko lagate kyun ho
dost hoke rahe aaisa zaroori toh nahi
dil hi jab mil na saka haath milate kyun ho
na laga paaungi main illzam uss par logon
mere muzrim ko mere saamne laate kyun ho

unknown

आई न फिर नज़र कहीं जाने किधर गई
उन तक तो साथ गर्दिश-ऐ-शाम-ओ-सहर गई
कुछ इतना बेसबात था हर जलवा-ऐ-हयात
लौट आई ज़ख्म खा के जिधर भी नज़र गई
आ देख मुझसे रूठने वाले तेरे बगैर
दिन भी गुज़र गया मेरी शब् भी गुज़र गई
नदीम है अपने अपने क़रीनों पे हर नज़र
दुनिया लहू उछाल के कितनी निखर गई

unknown

aayi na phir nazar kahin jaane kidhar gayi
unn tak toh saath gardish-e-sham-o-sahar gayi
kuch itna besabaat tha har jalwa-e-hayaat
laut aayi zakhm kha ke jidhar bhi nazar gayi
aa dekh mujhse roothne wale tere begaiir
din bhi guzar gaya meri shab bhi guzar gayi
nadeem hai apne apne qariinon pe har nazar
duniya lahu uchchal ke kitni nikhar gayi

unknown

दुश्मन को भी सीने से लगना नही भूले
हम अपने बुजुर्गों का ज़माना नही भूले
तुम आंखों की बरसात बचाए हुए रखना
कुछ लोग अभी आग लगाना नहीं भूले
ये बात अल्लग, हाथ कलम हो गए अपने
हम आप की तस्वीर बनाना नहीं भूले
इक उमर हुई मैं तो हँसी भूल चुका हूँ
तुम अब भी मेरे दिल को दुखाना नहीं भूले

unknown

dushman ko bhi siine se lagana nahi bhuule
hum apne buzurgon ka zamaana nahi bhuule
tum aankhon ki barasaat bachaaye huye rakhana
kuchh log abhi aag lagaana nahin bhuule
ye baat alagh, haath kalam ho gaye apane
hum aap ki tasviir banaana nahin bhuule
ik umar hui main toh hansii bhuul chuka hun
tum ab bhi mere dil ko dukhana nahin bhuule

unknown

कभी चाहोगे तो चाहत से बुलाएँगे तुम्हें
दर्द-ए-दिल क्या होता है ये दिखायेंगे तुम्हें
मोहब्बत होती है क्या मोहब्बत कर के देख लेना
फिर मेरे पास आना कुछ और बताएँगे तुम्हें
कभी न आयें आँख में आंसू तो ऐसा करना
एक शाम मेरे पास आना बोहत रुलायेंगे तुम्हें
हर पल रहोगे मुहब्बत में बेचैन
ख्याल बन कर सतायेंगे तुम्हें
पूछते हो जो जिंदा रहने का सबब
चलो किसी रोज़ जिंदगी से मिलायेंगे तुम्हें

unknown

kabhi chahoge toh chahat se bulayenge tumhen
dard-e-dil kya hota hai ye dikhayenge tumhen
mohbbat hoti hai kya mohbbat kar ke dekh lena
phir mere paas aana kuch aur batayenge tumhen
kabhi na aayen aankh mein aansu toh aisa karna
ek shaam mere paas aana bohat rulayenge tumhen
har pal rahoge muhbbat mein bechaiin
khayal ban kar satayenge tumhen
puchte ho jo zinda rehne ka sabab
chalo kisi roz zindgi se milyenge tumhen

फ़रज़ की shayyiri

चलो इश्क नही, चाहत की आदत है
क्या करे के हमें दुसरे की आदत है
तू अपनी शीशागरी का कर हुनर जाया
मैं आईना हूँ, मुझे टूटने की आदत है
विसाल में भी नही फासले सरब के हैं
के उसको नींद, मुझको रतजगे की आदत है
तेरा नसीब है ऐ दिल सदा की महरूम
न वो सखी है, न तुझे मांगने की आदत है
ये ख़ुद-अजियत कब तक 'फ़रज़'
तू भी उससे न कर याद, जिसे भूलने की आदत है

faraz ki shayyiri

chalo ishq nahi, chaht ki aadat hai
kya kare ke hamen dosre ki aadat hai
tu apni sheeshagari ka na kar hunar zaya
main aaina hun, mujhe tuutne ki aadat hai
visaal mein bhi nahi faasle sarab ke hain
ke ussko neend, mujhko rat-jage ki aadat hai
tera naseeb hai ae dil sada ki mehruum
na vo sakhi hai, na tujhe maangne ki aadat hai
ye khud-aziyat kab tak 'faraz'
tu bhi usse na kar yaad, jise bhulne ki aadat hai

unknown

अपनी मर्ज़ी से कहाँ अपने सफर के हम हैं
रुख हवाओं का जिधर का है, उधर के हम है
पहले हर चीज़ थी अपनी, मगर अब लगता है
अपने ही घर में किसी दोसरे घर के हम हैं
वक्त के साथ है मिटटी का सफर सदियों तक
किसको मालूम कहाँ के हैं, किधर के हम हैं ?
चलते रहते हैं के चलना है मुसाफिर का नसीब
सोचते रहते हैं की किस रह_गुज़र के हम हैं
गिनतियों में ही गिने जाते हैं हर दौर में हम
हर कलम_कार की बेनाम ख़बर के हम हैं

unknown

apni marzi se kahan apne safar ke hum hain
rukh hawaon ka jidhar ka hai, udhar ke hum hai
pehle har cheez thi apni, magar ab lagta hai
apne hi ghar mein kisi dosre ghar ke hum hain
waqt ke saath hai mitti ka safar sadiyon tak
kisko mallum kahan ke hain, kidhar ke hum hain ?
chalte rehte hain ke chalna hai musafir ka naseeb
sochte rehte hain ki kis rah_guzar ke hum hain
gintiyon mein hi gine jaate hain har daur mein hum
har qalam_kaar ki benaam khabar ke hum hain

unknown

कोई फरियाद तेरे दिल में दबी हो जैसे
तुने आंखों से कोई बात कही हो जैसे
जागते जागते एक उमर कटती हो जैसे
जन बाकी है मगर साँस रुकी हो जैसे
हर मुलाक़ात पे महसूस यही होता है
मुझसे कुछ तेरी नज़र पूछ रही हो जैसे
राह चलते हुए अक्सर ये गुमां होता है
वो नज़र छुप के मुझे देख रही हो जैसे
एक लम्हे में सिमट आया है सदियों का सफर
जिंदगी तेज़ बोहत तेज़ चली हो जैसे
इस तरह पहरों तुझे सोचता रहता हूँ मैं
मेरी हर साँस तेरे नाम लिखी हो जैसे
कोई फरियाद तेरे दिल में दबी हो जैसे
तुने आंखों से कोई बात कही हो जैसे

unknown

koi fariyaad tere dil mein dabi ho jaise
tune aankhon se koi baat kahi ho jaise
jagte jagte ek umar katti ho jaise
jan baaki hai magar saans ruki ho jaise
har mulaqat pe mehsuus yahi hota hai
mujhse kuch teri nazar pooch rahi ho jaise
raah chalte huye aksar ye guman hota hai
vo nazar chhup ke mujhe dekh rahi ho jaise
ek lamhe mein simat aaya hai sadiyon ka safar
zindgi tez bohat tez chali ho jaise
iss tarha pehron tujhe sochta rehta hun main
meri har saans tere naam likhi ho jaise
koi fariyad tere dil mein dabi ho jaise
tune aankhon se koi baat kahi ho jaise

unknown

तुम जहाँ भी रहो सदा खुश रहो
तुम्हे दिल से मैं भुला रहा हूँ आज
तुम्हारे प्यार की जो हसीं यादें है दिल में
उन् यादों को लौटा रहा हूँ आज
तुम्हारी बेवफाई का क्या चर्चा करूँ
अपनी वफ़ा पे शर्मा रहा हूँ आज
मुझे तुम्हारी बेवफाई से कोई शिकवा नही
मैं तुम्हारी जिंदगी से ही जा रहा हूँ आज

unknown

tum jahan bhi raho sada khush raho
tumhe dil se main bhula raha hun aaj
tumhare pyar ki jo hasiin yadein hai dil mein
unn yaadon ko lauta raha hun aaj
tumhari bewaffai ka kya charcha karun
apni waffa pe shrma raha hun aaj
mujhe tumhari bewaffai se koi shikwa nahi
main tumhari zindgi se hi ja raha hun aaj

unknown

हम भी अपने दिल में कुछ अरमान रखते है......
तू मेरी जान-ऐ-वफ़ा है यह अभिमान रखते है....
तेरी बेरुखी को भी दर_किनार रखते है......
अपनी आंखों के आंसुओं को आखों पर सजाकर रखते है.....

चाहत अपने दिल में उसके लिए बेशुमार रखते है
जिस राह से वो गुज़रे दिल निकाल के लोग हज़ार रखते है
कभी तो पड़ेगी नज़र उसकी हमारी तरफ़ भी
इसी आस में ख़ुद को हम संवार रखते है.....

unknown

hum bhi apne dil mein kuch armaan rakhte hai......
tu meri jaan-e-wafa hai yeh abhimaan rakhte hai....
teri berukhi ko bhi dar kinaar rakhte hai......
apni aankhon ke anshoo ko aakhon per sajakar rakhte hai.....

chahat apne dil mein uske liye beshumar rakhte hai
jis raah se vo guzre dil nikaal ke log hazaar rakhte hai
kabhi toh padegi nazar uski hamari taraf bhi
issi aas mein khud ko hum sanwaar rakhte hai.....

Majaz ki shayyiri

कमाल-ऐ-इश्क है दीवाना हो गया हूँ मैं
ये किस के हाथ से दामन छुडा रहा हूँ मैं
तुम्हीं तो हो जिसे कहती है न_खुदा दुनिया
बचा सको तो बचा लो की डूबता हूँ मैं
ये मेरे इश्क की मजबूरियां मा'अज_अल्लाह
तुम्हारा राज़ तुम्हीं से छुपा रहा हूँ मैं
इस इक हिजाब पे सौ बे_हिजाबियाँ सदके
जहाँ से चाहता हूँ तुमको देखता हूँ मैं
बताने वाले वहीं पर बताते हैं मंजिल
हज़ार बार जहाँ से गुज़र चुका हूँ मैं
कभी ये जौम की तू मुझसे छुप नहीं सकता
कभी ये वहम की ख़ुद भी छुपा हुआ हूँ मैं
मुझे सुने न कोई मस्त-ऐ-बादा-ए-इशरत
'मजाज़' टूटे हुए दिल की इक सदा हूँ मैं

Majaz ki shayyiri

kamaal-e-ishq hai deewana ho gaya hun main
ye kis ke haath se daaman chuda raha hun main
tumhin toh ho jise kehti hai na_khuda duniya
bacha sako toh bacha lo ki dubata hun main
ye mere ishq ki majburiyan ma'az_allah
tumhara raaz tumhin se chhupa raha hun main
iss ik hijaab pe sau be_hijaabiyan sadaqe
jahaan se chahta hun tumko dekhta hun main
batane wale vahin par batate hain manzil
hazaar baar jahan se guzar chuka hun main
kabhi ye zaum ki tu mujhse chhup nahin sakta
kabhi ye veham ki khud bhi chhupa hua hun main
mujhe sune na koi mast-e-baadaa-e-ishrat
'majaz' tuute huye dil ki ik sada hun main

faraz ki shayyiri

अब ना होगा राबता कहना उससे
जिस पे हम चलते रहे हैं साथ साथ
खो गया वोह रास्ता कहना उससे
तेरी यादें दिल से रुखसत हो गई
हो चूका यह सानिहा कहना उससे
अब ना देखेंगे तुम्हारा रास्ता
दिल को हम समझा चुके कहना उससे
चैन से सोने ना देगा ग़म तुझे
रात भर अब जागना कहना उससे
आशना बन केर ना मिलना राह मैं
दोस्ती एक ख्वाब था कहना उससे
मुड कर पीछे देखते हम भी नही
सोच कर मुँह फेरना कहना उससे….

faraz ki shayyiri

ab na hoga raabta kehna usse
jis pe hum chalte rahe hain saath saath
Kho gaya woh raasta kehna usse
teri yaadein dil se rukhsat ho gayi
ho chuka yeh saniha kehna usse
ab na dekhenge tumhara raasta
dil ko hum samjha chuke kehna usse
chaiin se sone na dega gham tujhe
raat bhar ab jaagna kehna usse
aashna ban ker na milna raah main
dosti ek khwaab tha kehna usse
mud kar peeche dekhte hum bhi nahi
soch kar munh pherna kehna usse….

unknown

अब दोस्त, दोस्त ही बन कर रहे तोः अच्छा है
अब प्यार ना बन जाये खाद्चा है
तेरी कुर्बतों से बेहतर अपनी दूरी अच्छी
तेरा वजूद ना पमेल हो यें खदचा है
तुम्हे भुलाना अब मेरी जिंदगी का मकसद है
मेरी यादों को ठे़स पोहंचने का खदचा है
अपने दीवान को तेरे नाम करता हूँ मैं
मेरे आशरों को लूट जाने का खदचा है
तुम किसी और से मुनसिब हो भी सकती हो मगर
मेरी जात को बिखर जाने का खदचा है
तेरी डोली उठे मेरे ज़नाजे से थोडा दूर मगर
तू खुश है के नही मुझे इस का खदचा है
कितनी खुशियाँ बिखरी हैं तेरे घर के दरीचों पे
पर मेरी तरफ़ तो मातम हो जाने का खदचा है

unknown

ab dost, dost hi ban kar rahe toh achcha hai
ab pyar na ban jaaye khadcha hai
teri qurbaton se behtar apni duuri achchi
tera wajood na pamel ho ye khadcha hai
tumhe bhulana ab meri zindgi ka maksad hai
meri yaadon ko theas pohnchne ka khadcha hai
apne diwaan ko tere naam karta hun main
mere aashron ko loot jaane ka khadcha hai
tum kisi aur se munsib ho bhi sakti ho magar
meri zaat ko bikhar jane ka khadcha hai
teri dolli uthe mere zanaje se thoda duur magar
tu khush hai ke nahi mujhe iss ka khadcha hai
kitni khushiyan bikhari hain tere ghar ke darichon pe
par meri taraf toh maatam ho jaane ka khadcha hai

saeed raahi ki shayyiri

क्या जाने कब कहाँ से चुराई मेरी ग़ज़ल
उस शोख ने मुझी को सुनाई मेरी ग़ज़ल
पूछा जो मैंने उससे के है कौन खुश-नसीब
आंखों से मुस्कुरा के लगायी मेरी ग़ज़ल
एक-एक लफ्ज़ बन के उड़ा था धुआं-धुआं
उसने जो गुनगुना के सुने मेरी ग़ज़ल
हर एक शख्स मेरी ग़ज़ल गुनगुनाएं है
‘राही’ तेरी ज़ुबाँ पे न आई मेरी ग़ज़ल

saeed raahi ki shayyiri

kya jaane kab kahan se churai meri ghazal
uss shokh ne mujhi ko sunayi meri ghazal
puchha jo maine usse ke hai kaun khush-naseeb
aankhon se muskuraa ke lagayi meri ghazal
ek-ek lafz ban ke udaa tha dhuan-dhuan
ussne jo gunguna ke sunai meri ghazal
har ek shaks meri ghazal gungunaayen hai
‘rahi’ teri zubaan pe na aayi meri ghazal

unknown

मोहब्बत हम भी कर लें गे
ये गलती तुम भी कर लेना
चलो तुम ही से कर लेंगे
किसी से तुम भी कर लेना
तुम्हें हम दोस्त कह्ते हैं
तो दोस्त तुम्हें मशवरा देंगे
मोहब्बत तुमने करनी है
सुनो ! हम ही से कर लेना

unknown

mohabbat hum bhi kar len ge
ye galti tum bhi kar lena
chalo tum hi se kar lenge
kisi se tum bhi kar lena
tumhen hum dost kehte hain
toh dost tumhen mashwara denge
mohabbat tumne karni hai
suno! hum hi se kar lena

shakeel badayuni ki shayyiri

कैसे कह दूँ की मुलाकात नहीं होती
रोज़ मिलते हैं मगर बात नहीं होती
आप लिलाह देखा करें आईना कभी
दिल का जाना कोई बड़ी बात नहीं होती
छुप के रोता हूँ तेरी याद में दुनिया भर से
कब मेरी आँख से बरसात नहीं होती
हाल-ऐ-दिल पूछने वाले तेरी दुनिया में कभी
दिन तो होता है मगर रात नहीं होती
जब भी मिलते हैं तो कह्ते है, 'कैसे हो "शकील"'
इस से आगे तोह कोई बात नहीं होती

shakeel badayuni ki shayyiri

kaise keh doon ki mulakaat nahin hoti
roz milte hain magar baat nahin hoti
aap lilaah na dekha karen aaiina kabhi
dil ka aa jana koi badi baat nahin hoti
chhup ke rota hun teri yaad mein duniya bhar se
kab meri aankh se barsaat nahin hoti
haal-e-dil puchne wale teri duniya mein kabhi
din toh hota hai magar raat nahin hoti
jab bhi milte hain toh kehte hai,'kaise ho "shakeel"'
iss se aagay toh koi baat nahin hoti

wel come